LOADING

Type to search

Uncategorized कविता

पुरुष की खूबसूरती

Priti Surana 1 year ago
Share

खचाखच भरी ट्रेन और बस में मुझे
थका देख कर जब वह अपनी जगह
मुझे देता है
तो झलकती है उसकी खूबसूरती

बिना नाते के भी जब उसकी नज़रों में
अपने लिए सम्मान देखती हूं
तो झलकती उसकी खूबसूरती

अंधेरा हो जाने पर जब वह मुझे
मेरे घर तक छोड़ कर आता है
तो झलकती है उसकी खूबसूरती

अगर कोई मुझसे दुर्व्यवहार करें
और वह आवाज उठाता है
तो झलकती है उसकी खूबसूरती

मुझे सामने से आता देख खुद
ही रास्ते से हट जाता है
तो झलकती है उसकी खूबसूरती

जब वो समझता है कि हर औरत
किसी की मां बेटी और बहन है
तो झलकती है उसकी खूबसूरती

अपनी बेटी की विदाई में जब
रो रोकर अपने प्यार को बाहाता है
तो झलकती है उसकी खूबसूरती

बहन घर लौटने में देर हो जाने पर
जब चिल्लाकर उसे वक्त बताता है
तो झलकती है उसकी खूबसूरती

अपनी पत्नी के बिना रंगीन दुनिया
होने पर भी जब अपने जीवन को
अर्थहीन बताता है
झलकती है उसकी खूबसूरती

भारी समान ना उठाने पानेपर
जब भागकर वह मेरे पास आता है
मैं कुछ मदद करूं?
झलकती है उसकी खूबसूरती

औरत के सम्मान में कही गई
दो पंक्तियां भी उसे
और खूबसूरत और
खूबसूरत और खूबसूरत बना देती हैं

# स्वाति_गौतम (copyright )

Previous Article

1 Comments

  1. Poonam Rajesh Tiwari January 1, 2018

    बहुत खूब… झलकती है उसकी खूबसूरती।

    Reply

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *