LOADING

Type to search

हौसला

Uncategorized लघुकथा

हौसला

Priti Surana July 25, 2017
Share

*एक सलाह जिसने कोमल की जिन्दगी बदल दी*

आज़ वो मुझे बाजार में मिल गई ! इतनी सुंदर दिख रही थी वो
सलवार सूट में ! आँखो में चश्मा हाथ में पर्स ओर स्कूटी पे थी वो !
पाँच साल पूरे पाँच साल बाद मिले हम ! दोनो की आँखो में पानी था ! ओर होठों पे मुस्कान सजी थी .!
दोनो के होंठो पर एक ही सवाल था कैसे हो ! ओर हम दोनो खिलखिला दिए ! चलो ना दीदी कॉफी पीते है !कोमल ने मुस्कुराते हुए कहा ! मैं कहाँ रोक पाई खुद को !ओर दोनो कॉफी हाउस पहुँच गए !…
कोमल तुम तो पहचान में ही नहीं आ रही हो !बिल्कुल बदल गई ! कहीँ नौकरी करने लगी हो लगता ! पाँच साल पहले वाली कोमल ओर ये कोमल एक ही है क्या …मुस्कुरा दि में !
कोमल भी हंसी पर जैसे एक उदास सी हसी ! ..
हाँ दीदी ये सब आप की वजह से हुआ ! गर आप ना होती तो
घुट कर वही मर जाती ! मरना चाहती थी मैं पर हिम्मत नहीं थी मरने की ! तंग आ गई थी पति के जुल्मों से ..एक नौकरानी बन रह गई थी ! ..शायद यूँ ही जिन्दगी निकल जाती ! ..
याद है दीदी आप अचानक ही मुझसे मिली ..क्युँ अपनी सी लगी थी मैं नहीं जानती ! आप ही थी जिससे मैं बात कर लेती थी ! धीरे धीरे आप के कब क़रीब आ गई पता नहीं चला !
हाँ याद है मुझे …आज़ जो हूँ मैं बस आपकी वजह से !
आपकी एक सलाह मशवरे ने मेरी जिन्दगी बदल दी!
आपकी एक सलाह ओर आज़ मैं इस मुकाम पर हूँ ! आप जान गई थी मेरे हुनर को ओर मुझे हिम्मत दी…मेरा स्वभिमान जगाया आपने….आप ही की सलाह थी की महिला मंडल के पास जाऊँ मैं ! वही किया मैंने महिला मंडल वालो ने मेरी मदद की !ओर मैने इंटीरियर डिज़ाइनर का कोर्स किया ! ओर मुझे इस काबिल बनाया !
पड़ी लिखी तो थी ही मैं .छोटी मोटी ट्यूशन लेने लगी ! ..एक हिम्मत सी आई मुझमें ! आप मेरी जिन्दगी में भगवान बन आए थे जैसे मुझे सलाह देने !
आज मैं अपने पैरो पर खड़ी हूँ ! हँसती हूँ खिलखिलाती हूँ !
सब आप की वजह से ! ….मुझे हौसला ना दिया होता आपने
एक अच्छी सलाह ना दी होती ! तो दीदी मैं यूँ कॉफी ना पी रही होती ! अश्क भरी आँखो से हम दोनो हँसने लगी !
दीदी कब से मैं ही बक बक कर रही हूँ ! …आपकी कॉफी ठंडी हो गई ! वेटर दो केपेचीनो ……..!

Daisy

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *