LOADING

Type to search

Uncategorized गीत

ये कैसे डेरे हैं

Priti Surana 1 year ago
Share

L

ये कैसे डेरे हैं मन के
जो भावों को छलते है,..

आस्था को डर जैसा पाले
जो जनमानस बैठा है
उनके कंधों पर पग रखकर
अगुआ सारे चलते है,..
ये कैसे डेरे हैं मन के
जो भावों को छलते है,..

सिर पर ताज पहनकर बैठे
जनता को बहकाते हैं
बातों में आकर आखिर में
हाथ हमेशा मलते है,..
ये कैसे डेरे हैं मन के
जो भावों को छलते है,..

किसको है परवाह जरा भी
उसकी जो झुक जाता है
लड़कर ही सारी दुनिया से
साहस वाले पलते हैं,..
ये कैसे डेरे हैं मन के
जो भावों को छलते है,..

जितने गहरे नाते मन के
उतने गहरे बंधन हैं
सुख की आशा में जो भटके
देखो जिंदा जलते हैं,..
ये कैसे डेरे हैं मन के
जो भावों को छलते है,..

प्रीति सुराना

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *