अंतरा शब्दशक्ति
(सृजन शब्द से शक्ति का)

डॉ. प्रीति सुराना द्वारा 1 फरवरी 2016 को 13 महिलाओं के एक व्हाट्सअप समूह से की गई शुरुआत जिसने सृजन फुलवारी से सृजन शब्द से शक्ति का सफर तय करते हुए अन्तरा-शब्दशक्ति का स्वरूप लिया।

अन्तरा शब्दशक्ति एक ऐसा सृजन मंच जो शब्द से शक्ति का विस्तार करके हिंदी भाषा के प्रचार प्रसार के साथ-साथ स्त्री शक्ति, युवा शक्ति और नवांकुरों के साथ-साथ स्थापित रचनाकारों की विविध विधाओं में निहित रचना प्रतिभाओं को एक मंच पर लाकर वैश्विक स्तर पर लाने हेतु प्रयासरत है। अंतरा-शब्दशक्ति, वेबसाइट, मासिक वेबपत्रिका (ई मैगजीन), समाचार पत्रों में प्रकाशन के माध्यम से तथा सप्ताह का कवि विशेषांक (एक कवि का परिचय रचनाओं सहित हर रविवार सार्वजनिक मंच पर समीक्षा हेतु प्रस्तुत) वेबसाइट, फेसबुक पेज, फेसबुक ग्रुप और व्हाट्सअप ग्रुप के माध्यम से वृहद पर रचनाकारों को जनमानस से जोड़ता है।

अन्तरा शब्दशक्ति प्रकाशन के माध्य से साझा संकलन, स्मारिकाएँ, समीक्षाएं आदि भी प्रकाशित करवाकर प्रतिभाओं को सामने लाने का सतत प्रयास जारी है। साझा संकलनों, लघु पुस्तिकाओं और पुस्तकों का प्रकाशन भी किया जाता है। 25 मार्च 2018 को प्रकाशन पंजीकृत हुआ तब से अब तक 230 से अधिक पुस्तकें प्रकाशित की जा चुकी है।  2019 विश्व पुस्तक मेला में सम्मिलित हुए।

डॉ प्रीति सुराना
www.pritisamkit.com
संस्थापक:-अन्तरा शब्दशक्ति
वारासिवनी (मप्र) 481331
संपर्क :- 09424765259
ईमेल- antrashabdshakti@gmail.com
antrashabdshkti@gmail.com
वेबसाइट- www.antrashabdshakti.com

Total Page Visits: 159 - Today Page Visits: 1